सफेद पानी, likoria, leucorrhoea, likoria kyun hota hai in hindi, leukorrhea treatment tips, safed pani aane ka reason

लिकोरिया महिला से सबंधित बीमारी है। इसे कुछ लोग सफेद पानी भी कहते है। इस बीमारी में महिला की योनी से दुर्गन्धयुक्त चिपचिपा गाढ़ा पानी निकलता है। यह किसी योनि या गर्भाश्य से संबंधित रोग का लक्षण भी हो सकता है। अगर यह बीमारी किसी महिला को हो जाती है तो शुरुआत में महिला लुकोरिया के बारे में किसी को नहीं बताती है। जिसका नतीजा यह होता है कि बीमारी और बढ़ जाती है। लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि कोई भी बीमारी कभी भी किसी को हो सकती है। ल्यूकोरिया का उपचार ना करने पर महिला का स्वास्थ्य कमजोर हो सकता है। अलग- अलग महिलाओं में स्त्राव की मात्रा एवं समयावधि अलग- अलग होती है। इसके कारण अंगों में सूजन आ जाती है।

आयुर्वेद में ल्यूकोरिया को क्या कहते हैं?

आयुर्वेद में ल्यूकोरिया को श्वेत प्रदर कहते हैं। आयुर्वेद में इसे एक स्वतंत्र रोग ना कहकर योनि के विभिन्न रोगों का लक्षण कहा गया है। जो महिलाएं अधिक चिकने, खट्टे,चटपटे, जैसे गलत खान-पान तथा मांस-मदिरा का सेवन करती हैं, उनको लिकोरिया होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

लिकोरिया के प्रकार – Likoriya Type in Hindi

ल्यूकोरिया के दो प्रकार है। पहला‘स्वभाविक ल्यूकोरिया’ दूसरा‘अस्वभाविक ल्यूकोरिया’चलिए इन्हें विस्तार से जानें।

स्वभाविक ल्यूकोरिया- मासिक चक्र के दौरान योनि से पानी जैसा बहने वाला दुर्गन्धरहित चिपचिपा, पतला और सामान्य माना जाता है। महिलाओं में अण्डोत्सर्ग के दौरान यह स्राव बढ़ जाता है। यह स्त्री के शरीर की सामान्य प्रक्रिया है। इसमें किसी उपचार की जरूरत नहीं होती है। केवल उचित आहार-विहार का पालन करना चाहिए।

अस्वभाविक ल्यूकोरिया- ऐसा बैक्टेरियल इन्फेक्शन होने पर देखा जाता है। स्राव का रंग असामान्य गाढ़ापन लिए हुए एवं दुर्गन्धयुक्त होता है। यह Yeast Infection भी हो सकता है।

और पढ़े जानिएं शीघ्रपतन क्यू होता है।

ल्यूकोरिया के लक्षण|

ल्यूकोरिया की पहचान के लिए लक्षण निम्नलिखित है।

  • योनी के मार्ग में तेज खुजली और चूभन महसूस होना।
  • कमर में दर्द रहना।
  • भूख कम लगना और जी मिचलाना।
  • आखों के नीचे काले घेरों का पड़ना।
  • आखों के सामने अंधेरा छाना और कभी- कभी चक्कर आना।
  • पेट में भारीपन बना रहना और बार-बार पेशाब आना।
  • चिड़चिड़ापन रहना।

ल्यूकोरिया के कारण- Lukoriya ki Wajah

पीरियड्स से पहले या बाद में थोड़ा सफेद पानी बहना आम बात है। लेकिन ज्यादा मात्रा में नियमित रुप से पीला या नीलापन लिए स्त्राव आने लगे तो ये कारण हो सकते है।

  • अविवाहित महिलाओं को यह पोषण की कमी की वजह से हो सकता है।
  • खून की कमी और ज्यादा मसालेदार खाना खाने की वजह से हो सकता है।
  • योनी की साफ सफाई ना रखना भी इस बीमारी का एक कारण है।
  • योनी में ‘ट्रिकोमोन्स वेगिनेल्स’ नामक बैक्टीरिया के कारण ल्यूकोरिया होता है।
  • जिस महिला को शुगर होता है उस महिला की योनी में फंगल इंफैक्शन होने के कारण भी लिकोरिया हो सकता है।
  • असामान्य यौन संबंधो से होने वाले संक्रमण के कारण
  • शरीर की इम्यूनिटी कमजोर होने की वजह  

और पढ़े – शुक्राणु बढ़ाने का सबसे अच्छा आयुर्वेदिक इलाज

लिकोरिया के लिए आयुर्वेदिक उपचार- Lukoriya Ke Liye Ayurvedic Upchar

लिकोरिया का इलाज Aman Clinic in Panipat में आयुर्वेदिक औषधियों द्वारा किया जाता है जिसका कोई साइड इफैक्ट नहीं है। यहां हर महिला रोगी की स्थिति और उसकी जीवन-शैली के आधार पर लिकोरिया से संबंधित संपूर्ण जांच के बाद उपचार दिया जाता है। अगर आप भी इस बीमारी से जूझ रहे हैं तो जल्द की अपना इलाज करवाएं और आराम से अपनी लाइफ का आनंद लें। लेकिन एक बात पर आप जरुर ध्यान दें कि आप अपने डॉक्टर के साथ पूरी तरह से स्पष्ट और ईमानदार रहें। क्योंकि आप जो भी अपने डॉक्टर को बताते है। वह आपके डॉक्टर को उपचार करने में मदद करता है। 

और पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *